AQI क्या है हिंदी । AQI के बारे में पूरी जानकारी

AQI (air quality index) Kya he Hindi

Hello friends,

दोस्तों इस article मैं हम लेकर आए हैं आपके लिए एक AQI के बारे में पूरी जानकारी । साथ ही साथ हम जानेंगे आपके मन में उठने वाले सवालों के जवाब जैसे –

  • AQI क्या है  ? AQI full form ?
  • AQI कितना होना चाहिए ?
  • AQI किस कारण से बढ़ता है PM 2.5 क्या होता है ?
  • AQI अच्छा बनाए रखने के उपाय 

AQI क्या है पूरी जानकारी हिंदी full form of AQI

दोस्तों हम सबसे पहले जानते हैं AQI क्या  है हम आपको बता दें कि AQI जिसका full form air quality index होता है । जैसे कि नाम से ही स्पष्ट हो रहा है फिर भी हम आपको बता दें एक AQI को हम हिंदी में वायु गुणवत्ता सूचकांक कहते हैं एक AQI की मदद से हम वायु की गुणवत्ता का हिसाब लगा सकते हैं यह एक विश्व स्तर पर घोषित पैमाना है जो कि हर देश में लागू होता है वर्तमान में आप किसी न्यूज़ में भी आपको यह शब्द उपयोग में लाते हुए सुना होगा । खासकर अगर दिल्ली की न्यूज़ हो । 

AQI क्या है हिंदी । AQI के बारे में पूरी जानकारी
Source by-pixabay

AQI Kya hai hindi

दोस्तों AQI हमें यह समझाता है कि वायु में कौन-कौन सी गैस अधिक मात्रा में है । जैसे उदाहरण के तौर पर हम आपको बता दें साधारण रूप से हमारे वातावरण में ऑक्सीजन , नाइट्रोजन कार्बन डाइऑक्साइड , कार्बन मोनो ऑक्साइड , सल्फर डाइऑक्साइड आदि पाई जाती है । खैर अगर ऑक्सीजन की बात करें तो कोई टेंशन नहीं है और अगर  जब इनमें से विषैली गैस जैसे सल्फर डाइऑक्साइड या मोनो ऑक्साइड की मात्रा बढ़ जाती है तो स्थिति सोचनीय हो जाती है । ऐसी स्थिति में हम AQI की मदद लेते हैं ।

दोस्तों AQI हमें निम्न भागों में आंकड़े प्रदर्शित करता है।

  1. अच्छा स्थिति जब AQI (0-50) हो इस स्थिति में हम एकदम खुले दिल से सांस ले सकते हैं 😀।                     
  2. संतोष जनक AQI जब स्थिति (51-100)हो जब संतोषजनक स्थिति होती है तब हमें सांस लेने में कुछ कठिनाई होने लगती है जैसे हम थोड़ी जल्दी जल्दी सांस लेने लगते हैं परिस्थिति सामान्य रहती है।                       
  3. थोड़ा प्रदूषित AQI जब स्थिति (101-200) पर हो तो हृदय रोगी तथा फेफड़े से संबंधित बीमारी वाले रोगियों को समस्या होने लगती है।                                                 
  4. खराब AQI जब स्थिति 200 के पार यानी (201-300) पर पहुंच जाती है तो वयस्क छोटे बच्चों एवं pregnant महिलाओं को सावधान हो जाना चाहिए या नहीं अगर वह घर से बाहर निकले तो marks लगाना जरूरी हो जाता है। हृदय ♥️ रोगी फेफड़े संबंधित रोगी भी सतर्क रहें                                        ‌।                                 
  5. बहुत खराब AQI (301-400) इस प्रकार की कंडीशन में स्थिति बहुत ही ज्यादा critical हो जाती है। इस समय सांस लेना मुश्किल सा हो जाता है यानी यहां पर ह्रदय रोगी को तो बहुत ही ज्यादा खतरा रहता है ऐसे में बहुत ही ज्यादा सावधानी रखनी चाहिए।                       
  6. गंभीर AQI (401-500) यह AQI की सबसे गंभीर स्थिति है । जिस भी इलाके में AQI इतना हो जाता है वहां पर आपातकाल घोषित किया जा सकता है यहां पर आपातकाल का तात्पर्य घर में रहने से।
AQI कितना होना चाहिए।

दोस्तों वैसे तो आपने ऊपर क्या आंकड़ों से पता लगा ही लिया होगा कि AQI कितना होना चाहिए।
अगर AQI 0-50 के बीच होना चाहिए जोकि ज्यादातर शहरों में रहता है।

AQI किस कारण से बढ़ता है PM 2.5 and PM 10 क्या है

दोस्तों हमारे वायुमंडल में बहुत सी गैसों का मिश्रण है कुछ आगे से ऐसी है जो कि हमारे शरीर के लिए जरूरी है परंतु कुछ कैसे ऐसी भी है जो कि हमारे शरीर को बहुत ज्यादा नुकसान देती है उन्ही में से है sulphur dioxide, monoxide , PM 2.5 or PM 10 

दिल्ली के प्रदूषण का मुख्य कारण ‍PM 2.5 or PM 10 है । PM 2.5 एक विषैली गैस का रूप है जिसका आकार एक छोटे करण के बराबर होता है ‌ जहां हमारे स्वास्थ्य पर बहुत बुरा प्रभाव डालती है। AQI क्या है हिंदी

AQI कैसे अच्छा बनाएं AQI अच्छा बनाने के उपाय।

  • सार्वजनिक वाहनों का करें प्रयोग

दोस्तों हमें अगर वायु प्रदूषण से बचना है तो डीजल पेट्रोल से चलने वाले वाहनों का कम प्रयोग करना है इसके स्थान पर अब साईकिल ले सकते हो। जैसे कि AQI संतुलित रहता है।

  • कल कारखानों में चिमनी का प्रयोग करें

कारखानों से निकलने वाला धुआं जिसमें कार्बन मोनोऑक्साइड , सल्फर डाइऑक्साइड पाई जाती है। जिसके कारण वायु प्रदूषित होती है तो ऐसे मैं कारखानों में पूछी चिमनी लगाना जरूरी है ताकि धुआं ऊपर के वातावरण निकल जाए ।

  • दिवाली पर बारूद का ज्यादा प्रयोग ना करें

दिवाली के समय या फिर दिवाली के बाद में वायु प्रदूषण अत्यधिक बढ़ जाता है। क्योंकि जब हम आतिशबाजी करते हैं तो उस समय बहुत अधिक मात्रा में विषैली गैस से उत्पन्न होती है जो कि हमारे वातावरण में जमा हो जाती है जिसके चलते में सांस लेने में तकलीफ आंखों में जलन जैसे समस्याएं होती है इससे बचने के लिए हमें बारूद का कम से कम प्रयोग करना चाहिए।

  • खेतों की पनाली ना जलाये

किसान अपनी फसल लेने के बाद में बचे अपशिष्ट कचरे को जला देते हैं जिससे बहुत सारा धुआं उत्पन्न होता है और आसपास के वातावरण में जमा हो जाता है जैसे कि वहां के रहने वाले लोगों में सांस लेने में तकलीफ होने लगती हैं ऐसी situation में हमें खेतों के अपशिष्ट को जैविक खाद के रूप में प्रयोग करना चाहिए उसे जलाना नहीं चाहिए।

दोस्तों हमें आशा है कि आप को AQI क्या है हिंदी पूरी तरीके से समझ आ गया होगा हमें कमेंट करके बताएं कि आपको यह आर्टिकल कैसा लगा । साथ ही साथ अपने मित्रों के साथ भी इस आर्टिकल को शेयर करें धन्यवाद ! 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *